बड़ा घपला: करोड़पति कारोबारी परिवार में भतीजे ने पुलिस में की रिपोर्ट, कहा- चाचा-चाची ने की करोड़ों की धोखाधड़ी, बेच दी प्रापर्टी

शेयर करें

रायपुर। रायपुर के एक करोड़पति कारोबारी परिवार में बड़ा घपला उजागर हुआ है। इस मामले में परिवार के ही एक युवक ने अपने चाचा के खिलाफ खम्हारडीह थाने में शिकायत की है। पुलिस ने शुरूआती जांच के बाद अब शहर के कारोबारी के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज कर लिया है। पुलिस ने कारोबारी की पत्नी और बेटे और एक स्टाफ के खिलाफ FIR दर्ज की है। अब जल्द ही इस कारोबारी परिवार के लोगों की गिरफ्तारी भी इस मामले में हो सकती है।

पूरा मामला अनुपम नगर इलाके में रहने वाले एक परिवार से जुड़ा हुआ है। इस परिवार के सदस्य अंकित जिंदल ने अपने चाचा के खिलाफ थाने में रिपोर्ट लिखवाई है। अंकित की शिकायत के मुताबिक उसके चाचा परेश अग्रवाल, चचेरे भाई आनंद अग्रवाल, चाची गिरिजा अग्रवाल और परिवार का काम संभालने वाले टिकेश चंद्राकर ने मिलकर बड़ी धोखाधड़ी को अंजाम दिया है। अंकित जिंदल का आरोप है कि परिवार के इन लोगों ने मिलकर करोड़ों रुपए का गबन किया है।

ऐसे हुआ सालों से चल रहे घपले का खुलासा

अंकित ने बताया कि सागर एग्रीकल्चर एंड प्राइवेट लिमिटेड कंपनी इनका परिवार चलाता है। ये कृषि से जुड़ी सर्विस की कपंनी है। इस कंपनी में अंकित भी डायरेक्टर है। अंकित ने बताया कि हाल ही में उसने कंपनी के नाम की कुछ संपत्तियों को बेचे जाने का नोटिस एक अखबार में देखा। जब उसने संपत्ति को बेचे जाने पर आपत्ति की तो उससे कह दिया गया कि वह अब कंपनी का डायरेक्टर नहीं रहा। आरोप के मुताबिक अंकित के चाचा ने कंपनी में अंकित के नाम का फर्जी इस्तीफा जमा कर दिया। जिसके मुताबिक साल 2012 में वह कंपनी से रिजाइन कर चुका है। जबकि इस बात की जानकारी खुद अंकित को नहीं थी।

संपत्तियों के बदले लोन लिए गए

अंकित के परिजन उसे कंपनी से निकाल कर कारोबार में अपनी मनमर्जियां करने लगे। कंपनी का रिकॉर्ड चेक करने पर पता चला कि फर्जी दस्तावेजों के जरिए कंपनी की संपत्तियों के बदले रिश्तेदारों ने कई लोन लिए और रुपए खुद रख लिए। अब पुलिस इस मामले में रायपुर के कारोबारी परेश अग्रवाल और उसके परिवार से जल्द ही पूछताछ कर सकती है। थाने की टीम लीगल एडवाइस के साथ इस केस में आगे बढ़ रही है।