‘नाटू-नाटू’ ने रचा इतिहास: बेस्ट ऑरिजिनल सॉन्ग मोशन पिक्चर कैटेगरी के लिए आरआरआर को मिला गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड

शेयर करें

एंटरटेनमेंट डेस्क: एनटीआर और रामचरण के डांस और एस.एस. राजामौली के ट्रीटमेंट ने ‘नाटू-नाटू’ गाने को काफी हिट बना दिया| फिल्म बनाते वक्त डायरेक्टर राजामौली के दिमाग में ये बात आ रही थी कि एनटीआर जूनियर और राम चरण दोनों ही तेलुगू फिल्म इंडस्ट्री के शानदार डांसर हैं| अगर दोनों को किसी गाने में साथ में डांस करते हुए दिखाया जाए तो ये दर्शकों को अच्छा लगेगा और भरपूर मनोरंजन मिलेगा| राजामौली ने ये आइडिया फिल्म के संगीतकार एमएम किरावानी से साझा किया और बताया कि वो फिल्म में ऐसा गाना चाहते हैं|

जिसमें दोनों एक्टर एक दूसरे से होड़ करते हुए डांस करें| इसके लिए किरावानी ने गीतकार चंद्रबोस को चुना और कहा कि ऐसा गाना लिखो जिसे सुनकर और डांस को देखकर दर्शकों के बीच एक जोश और उत्साह पैदा हो जाए| आप जो चाहे लिखें लेकिन ये ध्यान में रखें कि फिल्म 1920 में की घटनाओं के इर्द-गिर्द घूमती है| इसलिए उसी तरह के शब्दों का इस्तेमाल किया जाए|

इसके बाद चंद्रबोस ने गाने पर काम करना शुरू कर दिया| चंद्रबोस कार में बैठे थे और उनके दिमाग में गाने की बात घूम रही थी| चंद्रबोस एल्यूमीनियम फ़ैक्ट्री से जुबिली हिल्स जा रहे थे| ड्राइविंग करते वक्त उनके दिमाग में गाने की हुक लाइन ‘नाटू-नाटू’ कौंधी| हालांकि इस गाने पर अभी कोई धुन नहीं बनी थी, लेकिन चंद्रबोस ने गाने के 2-3 मुखड़े तैयार कर लिए थे| इसके बाद वो किरवानी से मिले|

नाटू-नाटू ऐसा गाना है, जिसमें हीरो अपने डांस के हुनर को प्रदर्शित करते हैं| गाने के मुखड़ों को किरावानी ने भी पसंद किया और इस तरह ये गाना फाइनल हुआ| 2 दिन में गाना करीब 90 प्रतिशत तैयार हो गया था| हालांकि कई बदलाव करने के बाद गाने को पूरा होने में 19 महीने का समय लग गया| गाने में आंध्रप्रदेश और तेलंगाना के 1920 के दशक की भाषाओं के शब्दों का इस्तेमाल किया गया है|

नाटू नाटू के म्यूजिक कंपोजर एमएम कीरावनी ने घोषणा के बाद स्टेज पर जाकर ट्रॉफी ली| मूवी की कमाई की बात करें तो आरआरआर ने ग्लोबल लेवल पर 1200 करोड़ रुपए से ज्यादा की कमाई की थी| पहले ही न्यूयॉर्क फिल्म क्रिटिक्स सर्कल अवॉर्ड्स में राजामौली बेस्ट डायरेक्टर समेत कई इंटरनेशनल ऑनर जीत चुकी है| इसके अलावा आरआरआर ऑस्कर की तमाम कैटेगरी में भी शॉर्टलिस्ट हुई है|

You cannot copy content of this page